Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
दिल्ली में लगभग सर्दियों का आगाज़ हो ही गया है। दिल्ली अपनी एक बात के लिए बहुत मशहूर है, वो है यहां का खाना। कह सकते हैं कि दिल्ली का दिल ही यहां का खाना-पीना है। तो जैसा कि हर मौसम में एक पकवान मशहूर होता है। कुछ ऐसे मौसम हैं जिस दौरान आपको दिल्ली शहर में कुछ खास पकवान खाने को मिलते हैं। बात दिल्ली के पकवान की आती है तो किसी के भी ज़हन में एक ही जगह का चित्र बनता है, वो है पुरानी दिल्ली। आज हम आपको बताने वाले हैं कि दिल्ली की इस बेदर्दी सर्दी में आप यहां के कौन-कौन से पकवानों का लुत्फ उठा सकते हैं।
दौलत की चाट
पुरानी दिल्ली की मशहूर ये डिश दौलत की चाट आपको सिर्फ सर्दियों में मिलती है। ये खाने में सॉफ्ट और मीठी होती है। इसको बनाने के लिए दूध को खूब पकाया जाता है उसके बाद इसे तब तक फेटा जाता है जब तक दूध सॉफ्ट ना हो जाए। फिर इसमें पिस्ता डालते हैं और इसे पिसी हुई चीनी से सजा देते हैं। पता- दौलत की चाट पुरानी दिल्ली में पराठें वाली गली, जैन मंदिर किनारी बाज़ार।
पता- दौलत की चाट पुरानी दिल्ली में पराठें वाली गली, जैन मंदिर किनारी बाज़ार।
गुड़ का हलवा
भारत के नॉर्थ भाग के हर घर के किचन का हिस्सा कहे जाने वाला है गुड़। इसी के साथ अगर ये हलवे की फॉर्म में आपको मिले तो इसका स्वाद बढ़ जाता है। गुड़ काफी फायदेमंद चीज़ है। आपको बता दें की गुड़ का हलवा आपको खासकर सर्दियों में पुरानी दिल्ली की गलियों में मिल जाता है। पता- छैना राम सिंधी कंफेक्शनरी, फतेहपुरी चौक, चाँदनी चौक, पुरी दिल्ली।
गाजर का हलवा
कहने को तो ये सिर्फ गाजर का हलवा होता है, लोकिन उत्तर भारतीयों के लिए ये किसी इमोशन से कम नहीं होता है। गाजर, मेवे और दूध से बना साधारण सा दिखने वाला ये हलवा किसी जन्नत से कम नहीं होता। साथ ही अगर गाजर का हलवा आपको तेज़ सर्दियों में खाने को मिल जाए तो इसकी बात ही अलग होती है। वैसे तो इसे आप दिल्ली तथा आस-पास के इलाकों में हर हलवाई की दुकान से खरीद सकते हैं। लेकिन अगर टेस्टी हलवा खाना है तो ये रहा पता। पता- ज्ञानी दि हट्टी, चर्च मिशन रोड, फतेहपुरी, चाँदनी चौक
निहारी
इसका नाम तो सुनते ही मांसाहारी लोगों के मुँह से लार टपकने लगती है। दिल्ली पर एक समय मुगलों का राज था और इसी के चलते 17वीं और 18 वीं सदी में भारत में निहारी जैसे पकवान ने अपनी जगह बनाई। एक समय निहारी दिल्ली में काम करने वाले मुगलों के मज़दूरों को सुबह के नाशते में मिलती थी। इसका स्वाद काफी मख्कन से भरा और मिर्च मसाले वाला होता है। अगर आप माँसाहारी है तो ये डिश है आपके लिए। पता- हाजी शबरती निहारी वाला और कल्लू निहारी वाला।
Author- Anida Saifi
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop app, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से...
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.