Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
झूठ बोलते थे फिर भी कितने सच्चे थे हम... ये उन दिनों की बात हैं, जब बच्चे थे हम… जी हां, किसी ने खूब कहा है बच्चों की मासूमियत पर। आप चाहें जितने भी समझदार हो जाएं पर बचपन की मासूमियत से कीमती कोई चीज इस दुनिया में नहीं हैं, पर अफसोस कि आजकल के बच्चों में वो पहले जैसी मासूमियत नहीं बची है। आज के बच्चे समय से पहले ही बड़े हो रहे हैं, समय से पहले ही उनमें गंभीरता और संवेदनशीलता देखने को मिल रही है, जो कि बिलकुल ही सही नहीं है और इसके लिए काफी हद तक पैरेंट्स और आजकल की जीवनशैली जिम्मेदार है। आज हम कुछ ऐसी ही वजहों पर बात कर रहे हैं जिसके कारण समय से पहले बच्चों के बचपना खत्म हो रहा है। जैसे कि...
बदलती जीवनशैली
सबसे बड़ी वजह तो यही है कि समय के साथ ही लोगों की जीवनशैली पहले से कहीं अधिक बदल चुकी है... पहले जहां संयुक्त परिवार हुआ करते थें, वही अब ज्यादातर परिवार एकाकी हैं, जहां सिर्फ पति-पत्नी और बच्चें होते हैं, ऐसे में अगर पति-पत्नि दोनो वर्किंग हैं तो वो बच्चों को अधिक समय नहीं दे पाते, जिसके कारण बच्चों में एकाकीपन, उदासीनता घर कर जाती है और फिर उन बच्चों में मासूमियत जैसी कोई बात नहीं रह जाती।
मोबाइल और इंटरनेट का प्रभाव
जी हां, समय से पहले बच्चों के बड़े होने का एक कारण तो मोबाइल और इंटरनेट का बढ़ता प्रभाव भी है। बच्चों के हांथों में मौजूद मोबाइल उनकी मासूमियत का सबसे बड़ा दुश्मन है। इंटरनट के जरे बच्चें अच्छी-बुरी हर चीज के सम्पर्क में हैं, ऐसे में अगर मां-बाप जरा सा ध्यान ना दें तो बच्चों में अपराधिक प्रवृत्ति पनपते देर नहीं लगती।
पढ़ाई का दबाव
पढ़ाई का दबाव भी बच्चों के खोते मासूमियत की वजह है, आज पहले से कहीं अधिक पढ़ाई का बोझ बच्चों पर है। स्कूल, ट्यशन और होमवर्क से बच्चों को फुरसत ही नहीं मिलती कि वो खेल-कूद सकें, ऐसे में निदा फाज़ली की ये लाइन बिलकुल सही बैठती है...
बच्चों के छोटे हाथों को चाँद सितारे छूने दो,चार किताबें पढ़ कर ये भी हम जैसे हो जाएँगे.
दूसरों से तुलना
आज के प्रतिस्पर्धा भरे युग में प्रतियोगिता के रेस से बच्चे भी अछूते नहीं रहे हैं, मां-बाप खुद अपने बच्चों की तुलना दूसरों से करते रहते हैं, ऐसे में बच्चों के मन- मस्तिष्क परबुरा प्रभाव पड़ता है और उनकी मासूमियत कहीं गुम हो जाती है।
YOUR REACTION
  • 3
  • 23
  • 11
  • 7
  • 8
  • 12

Add you Response

  • Please add your comment.