Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
आज है मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्मदिन। मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्म 27 दिसंबर 1797 में हुआ था। गालिब अपने समय के एक बड़े कवीता लेखक थे। इसी के सात शायरी और ग़ज़ल भी लिखा करते थे। बहादुऱ शाह ज़फर के दौर में अपना एक नाम बना लिया था और इन्हीं मुगल घरानों से अपना गुज़र बसर करते थे।
इसी लिए कभी भी कोई काम नहीं किया और बाद में मुगल घरानों से मिली पेंशन पर जीते रहे। लेकिन उनकी पेंशन कभी भी पूरी तरह से उनको मिल नहीं मिल पायी। इसी लिए दर-दर भटक कर लोगों से उधार लिया करते थे और खाना खाया करते।
ग़ालिब का असली नाम मिर्ज़ा असदुल्लाह् बेग ख़ान था। गालिब उनका लकब यानी तखल्लुस नाम था। गालिब नाम वो लेखन करते समय इस्तेमाल किया करते थे। उर्दू और परशियन में लिखा करते थे। आपको बता दें कि आज भी मिर्ज़ा ग़ालिब को लोग पढ़ना पसंद करते हैं।
तो ग़ालिब के जन्मदिन पर पढ़िये उनके कुछ शेर...
खल्क= दुनिया, बाद-ए-कत्ल= कत्ल/ खून करने के बाद।
Contest
सवाल- मिर्ज़ा ग़ालिब के जन्मदिन पर पढ़िये उनके कुछ मशहूर शेर, यहां पर ye content ka writer kon hai
Author- Anida Saifi
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से...
YOUR REACTION
  • 1
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.