Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
इंसान का बस भले ही बाहरी दुनिया और परिस्थितियां पर ना हो, पर उन परिस्थितियों के प्रति आप कैसा रूख रखते हैं ये आपके बस मे जरूर है और जो लोग अपनी सोच-समझ के जरिए परिस्थितियों को बदलने का माद्दा रखते हैं, दुनिया उनके कदमों में होती है। आज हम एक ऐसी ही शख्सियत की बात कर रहे हैं जिन्होने अपने उद्यम के दम पर ना सिर्फ देश-दुनिया में अपना मुकाम बनाया बल्कि भारतीय युवाओं को सफलता के लिए प्रेरित किया। जी हां, हम बात कर रहे हैं, रिलायंस इंडस्ट्री के संस्थापक धीरूभाई अंबानी की, जिन्होने पेट्रोल पम्प पर काम करने से लेकर पेट्रो कैमिकल रीफाईनरी बनाने का शानदार सफर तय किया है। धीरू भाई अंबानी की असाधारण सफलता में उनके सोच का बड़ी भूमिका रही है और धीरू भाई अंबानी के जन्मदिवस के अवसर पर हम आपको उनके ऐसे ही प्रेरक विचारों से परिचय कराने जा रहे हैं।
वैसे धीरुभाई अंबानी के जीवनयात्रा अपने आप में एक प्रेरणा है और उनके विचार अपने आप में अनमोल हैं। चलिए आपको उनकी जीवनी के साथ ही उनके अनमोल विचारों से रूबरू कराते हैं...
धीरुभाई अंबानी का जन्म 1933 में आज ही के दिन यानी 28 दिसंबर को गुजरात के जूनागढ़ में हुआ था
धीरुभाई अंबानी पूरा नाम धीरजलाल हीरालाल अंबानी था, वहीं उनके पिता का नाम हीराचंद गोर्धनभाई अंबानी और मां का नाम जमनाबेन था।
जानकारी के मुताबिक धीरुभाई अंबानी ने अपना पहला व्यवसाय पहाड़ियों पर यात्रियों को पकौड़े बेच कर किया था
इसके बाद 16 वर्ष की छोटी उम्र में ही वे यमन चले गये जहां उन्होने 300 रूपये के वेतन पर काम किया।
इसके बाद भारत वापस आकर उन्होने पॉलिएस्टर धागे और मसालों के आयात-निर्यात का व्यापार शुरू किया।
2007 तक उन्होने 100 अरब डाँलर की सम्पत्ति जोड़ ली थी और इसके साथ ही वे दुनिया के अमीर शख्सियतों में शुमार हो गए।
50 के दशक में उन्होने मुंबई में रिलायंस उद्योग की स्थापना की।
धीरुभाई ने अपने जीवनकाल में ही कपड़ा से लेकर दूरसंचार तक में रिलायंस के कारोबार का विस्तार किया।
धीरुभाई, एशियावीक की मैग्जीन में साल 1996, 1998 और 2000 में ‘पॉवर 50 – मोस्ट पावरफुल पीपल इन एशिया’ की सूची में शामिल रह चुके हैं।
वहीं फेडरेशन ऑफ़ इंडियन चैम्बर्स ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा धीरुभाई ‘मैन ऑफ 20th सेंचुरी’ घोषित किए जा चुके हैं।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.