Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
बीते साल भले ही कंगना रनौत की एक भी फिल्म नहीं आई, पर इस साल वो पर्दे पर धमाल मचाने की तैयारी पूरी कर चुकी हैं। जैसा कि उनकी मोस्ट अवटेड फिल्म ‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी’ इस साल गणतंत्र दिवस के मौके पर 25 जनवरी को रिलीज होने जा रही है। फिल्म के दमदार ट्रेलर ने तो पहले से ही फिल्म माहौल बना रखा है, वहीं अब रिलीज हुए इसके नए गाने ‘भारत’ ने रही सही बाकी कसर पूरी कर दी है।
जी हां, बुधवार को फिल्म मणिकर्णिका का नया गाना ‘भारत’ रिलीज हुआ है, जो कि देशभक्ति की भावना से सराबोर है। गाने के बोल हैं... ‘देश से है प्यार तो, हर पल ये कहना चाहिए, मैं रहूं या ना रहूं, भारत ये रहना चाहिए’। ऐसे में इस गाने को सुन रोम-रोम में देशभक्ति का जोश जाग उठता है। वहीं के गाने के दृश्य भी बेहद भावपूर्ण हैं, जिसमें लक्ष्मीबाई की बचपन की झलक मिलती है... गाने में दिखाया गया है कि कैसे एक नन्ही सी बच्ची, घर के आंगन से निकलकर एक राज्य की रानी बनती है और इतिहास में झांसी की रानी के रूप में अमर हो जाती है।
वैसे इस गानो को देखना जितना रोमांचक है, वहीं उतने ही शानदार इस गाने के धुन और शब्द भी है, असल में इस गाने को संगीत जगत के तीन लीजेंड ने तैयार किया है। प्रसून जोशी के लिखे इस गाने को शंकर महादेवन ने अपनी दमदार आवाज़ दी है, तो इसे संगीत दिया है शंकर एहसान लॉय ने। यहां देखे ये गाना...
<iframe width="100%" height="250" src="https://www.youtube.com/embed/YOXiSICzsiY" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>
गौरतलब है कि इससे पहले रिलीज हुए फिल्म के गाने ‘विजयी भव’ को भी लोगों ने काफी पसंद किया है, वहीं इसका ट्रेलर भी धूम मचा चुका है, जिसे दो करोड़ 30 लाख से भी अधिक बार देखा जा चुका है। ऐसे में देखने वाली बात होगी फिल्म पर्दे पर क्या कमाल करती है।वैसे इस बिग बजट फिल्म के लिए कंगना ने काफी मेहनत की है, फिल्म में झांसी की रानी जैसी शख्सियत को पर्दे पर साकार करने के लिए जहां उन्होने तलवारबाजी से लेकर घुड़सवारी की ट्रेनिंग ली है, वहीं जरूरत पड़ने पर फिल्म के निर्देशन का कार्यभार भी सम्भाला है। ये फिल्म कुल मिलाकर कंगना के बीते दो सालों की लगन और मेहनत का नतीजा है।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.