Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
आमतौर पर माना जाता है स्वस्थ रहने के लिए शरीर को आराम पहुंचना बेहद जरूरी है और इसके लिए पर्याप्त नींद लेना आवश्यक है, लेकिन इसके साथ ये भी ध्यान रहे कि इस नींद की भी एक सीमा होनी चाहिए। क्योंकि जरूरत से अधिक सोना भी सेहत के लिए नुकसानदायक होता है। दरअसल, स्वास्थय विशेषज्ञों का कहना है कि 7-8 घंटे से अधिक की नींद से मोर्टालिटी और कार्डियोवस्कुलर बीमारियों के होने की संभावना बढ़ जाती है। चलिए आपको इससे होने वाले नुकसान के बारे में विस्तार से बताते हैं...
दिल को है खतरा
वहीं अधिक नींद लेने से मधुमेह की समस्या होने की संभावना भी बढ़ जाती है। स्वास्थय विशेषज्ञों के अनुसार अधिक सोने वालों लोगों की शारीरिक गतिविधियां कम होने के कारण उनके शरीर में सुगर की मात्रा अधिक हो जाती है, ऐसे में मधुमेह रोग का खतरा रहता है।
डायबिटीज का खतरा
वहीं अधिक नींद लेने से मधुमेह की समस्या होने की संभावना भी बढ़ जाती है। स्वास्थय विशेषज्ञों के अनुसार अधिक सोने वालों लोगों की शारीरिक गतिविधियां कम होने के कारण उनके शरीर में सुगर की मात्रा अधिक हो जाती है, ऐसे में मधुमेह रोग का खतरा रहता है।
डिप्रेशन का खतरा
जी हां, अधिक सोने के कारण दिमाग और मानसिक अवस्था पर भी असर पड़ता है, जिसके कारण कई बार अवसाद की स्थिति बन जाती है।
वजन बढ़ता है
जी हां, शोध की माने तो अधिक सोने वाले लोगों में मोटापे की वजन बढ़ने की सम्भावना 21 प्रतिशत अधिक होती है। दरअसल, जरूरत से अधिक मोटापे को भी बढ़ाता है। क्योंकि शारीरिक गतिविधि कम होने के कारणशरीर की उर्जा वसा में बदल जाती है। शोध के अनुसार असक्रियता 21 फीसदी मोटापे को बढ़ाता है और आपका मोटापा अन्य बीमारियों को खुला न्यौता देता है। इसलिए 8 घंटे से अधिक ना सोएं।
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.