Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
जी हां, प्यार का महीना यानी फरवरी दस्तक दे चुका है और इसके साथ ही जवां दिलों की धड़कने तेज हो चुकी हैं। बदलते मौसम के साथ ही जहां हर तरफ प्यार की खुमारी सी छा रही है, वहीं कैलेंडर में भी प्यार की तारीखें छप चुकी हैं। वेलेंटाइन वीके के साथ पूरा एक सप्ताह प्यार करने वाले के लिए उत्सव का मौहाल रहने वाले हैं। ऐसे में मौसम के मिजाज को समझते हुए बाजार भी सज चुका है। वैसे सोचने वाली बात है कि आखिर फरवरी के महीने में ही प्यार का ये उत्सव क्यों मनाया जाता है और ये महीना “प्यार का महीना” क्यों कहलाता है। दरअसल, इसके पीछे बेहद तार्किक वजह है और आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं।
ये मौसम का जादू है मितवा
जी हां, इस महीने में फिजाओं में ही प्यार का घुला होता है... असल में इस महीने में बसंत का मौसम होता है, जब चारों तरफ हरियाली और नए फूल-पत्ते खिल रहे होते हैं। तीखी और बेदर्द ठंड जहां बीत रही होती है और वहीं मौसम में खुशनमां बदलाव होता है। इस खुशनुमा मौसम में मन भी बेहद खुशनुमा हो जाता है और ऐसे में अपने पार्टनर के प्रति अधिक आकर्षण भी बढ़ जाता हैं। लोग अपने साथी के साथ अधिक से अधिक समय बिताना चाहते हैं। यही वजह है कि प्रेममिलाप के लिए फरवरी का महीना सबसे बेहतर माना जाता है।
प्राचीन काल से चली आ रही है ऐसी रीत
प्राचीन काल से ही बसंत को प्रेमी-प्रेमिका के मिलन का मौसम माना गया है, पौराणिक कहानियों में बसंत ऋतु में कामदेव के सक्रिय होने के कई प्रसंग मिलते हैं। यहां तक कि देवी देविताओं के बीच भी इसी ऋतु में समागम का उल्लेख मिलता है। ऐसे में प्राचीन ग्रंथो में बसंत को प्रीत का ऋतु माना गया है।
क्या कहता है विज्ञान
इसके लिए विज्ञान का कहना है कि इस वक्त प्रकृति का तापमान सामान्य होने के कारण शरीर में ऐसे हार्मोन्स बनते हैं जिनसे विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण बढ़ जाता है... महिलाओं में जहां प्रोजेस्टेरोन हार्मोन्स का लेवल अधिक हो जाता हैं तो वहीं पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन्स का लेवल बढ़ जाता हैं। जिससे कपल एक दूसरे के प्रति भावनात्मक और शारीरिक रूप से आकर्षित हो जाते हैं।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.