Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
आज हम आपको एक ऐसी शिक्षिका की कहानी बताने जा रहे हैं, जिसने छात्रों को एक ऐसी कला सिखा दी जो आज बड़े से बड़े लोगों के पास नहीं है। जी हां, आपको बता दें कि आज जहां समाज में चारों तरफ लोग एक दूसरे की सिर्फ और सिर्फ बुराइयां ही देखते रहते हैं। वही शायद ही कोई ऐसा इंसान हो, जिसे सामने वाले में थोड़ी सी भी अच्छाई दिखे। यह एक छोटी सी चीज नहीं है, बल्कि एक ऐसी चीज है जो इंसान के भीतर से इंसानियत को लगातार खत्म करती जा रही है। ऐसे में एक शिक्षिका की कहानी उसके छात्रों के लिए बहुत बड़ा सबक है। चलिए आपको सीधे उस कहानी से जोड़ते हैं, जो उस शिक्षिका ने अपने छात्रों को सुनाई।
अंजू मैम क्लास में आते ही सभी बच्चों को अपनी कॉपी से एक पन्ना निकालकर उसमें क्लास के सभी बच्चों के नाम लिखने को कहा उनकी हिदायत यह भी थी कि दो नामों के बीच एक लाइन खाली छोड़ दी जाए। जब सबने नाम लिख लिए। तब शिक्षिका ने बीच की लाइन में हर बच्चे के बारे में एक अनोखी बात लिखने को कहा।सभी ने ऐसा ही किया। बच्चों को अपने बारे में दूसरों से अच्छा-अच्छा सुनकर काफी अच्छा लगा।
कई साल बाद अंजू मैम को एक दिन पता चला कि स्कूल का ही छात्र रह चुका किशोर जो सेना में कैप्टन था, एक आतंकी हमले में शहीद हो गया। स्कूल के सभी शिक्षक किशोर को श्रद्धांजलि देने उसके घर पहुंचे। अंजू मैम को देख एक सैनिक उनके पास आकर पूछने लगा। क्या आप ही अंजू मैम हो, किशोर आपको बहुत याद किया करता था। तभी किशोर के पिता आए और जेब से एक पुराना पर्चा निकालने लगे। अंजू मैम भोचक्क रह गयीं।
यह वही पर्चा था जो कभी उन्होंने किशोर की क्लास में सभी बच्चों से भरवाया था। टुकड़े को देखकर लग रहा था कि जैसे कि उसे कई बार पढ़ा गया हो। किशोर के पिता बोले इस कागज ने किशोर की जिंदगी बदल दी थी। उसके अंदर एक अटूट आत्मविश्वास आ गया था। वह जो भी करता था उसमें सफल होता था। अक्सर जब किशोर से बात होती थी तो वह कहता था जब भी मैं अपने आप को कमजोर पाता हूं तब यह कागज खोल जरूर पढ़ लेता हूं फिर मुझे ऐसा महसूस होता है कि मैं कितना अनमोल हूं। उस कागज में लिखा था- “किशोर एक बहुत ही बहादुर लड़का है जो कि जिंदगी की किसी भी परिस्थिति से घबराता नहीं है वह हीरो बनेगा, क्योंकि वह दुनिया के लिए अनमोल है।”
Author: Amit Rajpoot
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.