Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
अमिताभ बच्चन ना सिर्फ फिल्म इंडस्ट्री के लिए प्रेरणास्रोत हैं, बल्कि बल्कि पूरे देश के आवाम के दिलों में वो खास जगह रखते हैं। यही वजह है कि सरकार भी शिक्षा और स्वास्थ्य से जुड़े कार्यक्रमों के प्रचार–प्रसार में बिग बी की मदद लेती है। टीबी, पोलियो के साथ ही अमिताभ बच्चन हेपेटाइटिस बी जैसे गंभीर रोगों के रोकथाम के लिए सरकारी योजनाओं के साथ जुड़े हुए हैं। वैसे गौर करने वाली बात ये है कि खुद अमिताभ बच्चन भी हेपेटाइटिस बी जैसे गंभीर रोग से पीड़ित हैं, ऐसे हाल ही में जब वो हेपेटाइटिस बी के प्रति जागरूकता कार्यक्रम में पहुंचे तो वहां उन्होने अपने निजी अनुभव को शेयर किया।
मुंबई में आयोजित इस कार्यक्रम में बिग बी ने हेपेटाइटिस बी से संक्रमित लोगों के प्रति समाज में बढ़ती दुर्भावना को लेकर अपना दिल खोलकर रख दिया है। इस मौके पर बिग बी ने कहा कि... ‘इस बीमारी के चलते जिन लोगों के साथ गलत व्यवहार होता है, तो वह मुझे बहुत दुखी करता है। मुझे पता चला कि इसके कारण कई सारी महिलाओं को घर से निकाल दिया जाता है, वहीं बहुत से देश में अगर पता चल जाए कि आपके शरीर में इस बीमारी का वायरस है तो आपको वहां उस देश में घुसने तक नहीं दिया जाता.. ऐसे में, अगर मेरा चेहरा और मेरी आवाज इस अन्याय के खिलाफ काम कर सकती है तो मैं अवश्य इसमें जरूर सहयोग देना चाहूंगा।’
इसके साथ ही बॉलीवुड सुपरस्टार ने अपने निजी अनुभव को शेयर करते हुए कहा कि ‘मैं खुद हेपेटाइटिस बी का मरीज हूं, मै इससे परेशान रहा हूं पर मैं जीवित हूं... मेरा लगभग 75 फीसदी लीवर खराब हो चुका है लेकिन फिर भी मैं 25 फीसदी पर भी जिंदा हूं, मुझे ये बताया गया है कि अगर आपका लीवर 12 फीसदी भी ठीक है तो आप जीवित रह सकते हैं’।
बिग बी ने आगे कहा कि... ‘मैं आपको ये भी बताना चाहता हूं कि इस बीमारी के चलते मुझे किसी काम या दिनचर्या में कोई भी तकलीफ नहीं होती... मैं अपने हर काम करता हूं और एक साधारण जीवन बिता रहा हूं, जहां मुझे बुलाया जाता है, मैं वहां जाता हूं।’
गौरतलब है कि इससे पहले भी अमिताभ बच्चन अपनी इस बीमारी को लेकर खुलकर बात कर चुके हैं। अमिताभ ने खुद ये खुलासा किया था कि फिल्म कुली के दौरान हुए हादसे के वक्त उन्हे दिए गए ब्लड में से कुछ हिस्सा हेपेटाइटिस बी अफेक्टेड था, जिसके कारण उन्हे ये बीमारी हुई और आज उनेक लिवर का एक चौथाई हिस्सा ही बच पाया है।
Author: Yashodhara Virodai
https://www.youtube.com/watch?v=dVj5FHLcIxg
https://www.youtube.com/watch?v=dVj5FHLcIxg
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.