Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
आजकल वेगन डाइट का चलन बढ़ रहा है... जिसमें लोग मीट, मांस और अंडे के साथ साथ दूध से बनी चीजों से भी परहेज कर रहे हैं। जबकि दूसरी और देखा जाए तो सेहत के लिए दूध सबसे उत्तम आहार माना जाता है, क्योंकि इसे अपने आप में सम्पूर्ण आहार माना गया है। इसलिए वेजन डाइट को फॉलो करने वाले लोग अब लोग जानवरों के दूध के बजाए सोया या बादाम से बने दूध को तरजीह दे रहे हैं। ऐसे में एक बहस चल रही है कि क्या जानवर का दूध पीना सही है कि नही? वैसे देखा जाए तो जानवरों के दूध से परहेज कोई नई बात नहीं हैं बल्कि सदियों पहले कई सारे देशों में जानवरों की दूध पीना बुरा माना जाता था।
आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं कि आखिर कब और क्यों इंसान ने शुरू किया जानवरों का दूध पीना और कैसे ये हमारी खानपान का अहम हिस्सा बन गया।
यूरोप से आया ये चलन
असल में, अगर 3 लाख साल के इतिहास के पन्ने को पलटें, तो इंसाने के जानवरों के दूध पीने की आदत अधिक पुरानी नहीं है। इतिहास के अनुसार, जानवरो का दूध पीने की चलन यूरोप से एशियाई देशों में पहुंचा। जी हां, सबसे पहले जानवरो के दूध पीने की आदत पश्चिमी यूरोप के लोगों को पड़ी और उन्होने गाय और दूसरे जानवर पालने शुरू किए। ऐसे में जब यूरोपीय देशों के लोग दूसरे देश मे पहुंचे तो उनके साथ ही ये चलन भी वहां पहुंचा और लोगों ने जानवरों को पालना और उनके दूध का सेवन शुरू किया।
जी हां, भले ही ऐसा दावा किया जाता है कि सालों पहले भारत में दूध की नदियां बहती थीं, पर असल में इतिहास की बात की जाए तो बमुश्किल 10 हज़ार साल ऐसा कोई इंसान होगा, जो जानवरों का दूध पीता हो।
चीन में दो दशक पहले तक लोग नहीं पीते थें जानवर का दूध
सिर्फ भारत ही नहीं दूसरे कई एशियाई देशों में जानवरों के दूध पीने का चलन काफी बाद में आया है। यहां तक कि चीन में ये चलन इक्कीसवीं सदी में बढ़ा हैं, क्योंकि चीन की पुरानी सभ्यता में जानवरों से निकले दूध का पीना अच्छा नहीं माना जाता था। हालांकि सेहत के लिए दूध की उपयोगिता को देखते हुए साल 2000 में चीन की सरकार ने देशव्यापी मुहिम के तहत लोगों से अधिक से अधिक दूध और डेयरी उत्पाद के सेवन की अपील की थी।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 4
  • 6
  • 2
  • 1
  • 3
  • 5

Add you Response

  • Please add your comment.