Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
इस साल हम 108वां अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस बैलेंस फॉर बेटर के थीम के साथ मना रहे हैं। जाहिर समाज में समानता तभी आएगी जब महिलाओं को बराबरी का अधिकार मिले... हर क्षेत्र में उन्हें पुरूषों के समान अवसर मिलें। देश की राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी बेहद जरुरी है। बात की जाए भारत की तो यहां लगभग हर क्षेत्र में महिलाएं पुरूषों के साथ कंधा से कंधा मिलाकर चल रही हैं। हालांकि इस स्थिति तक पहुंचने के लिए उन महिलाओं के योगदान को भूला नहीं सकते, जिन्होने लीक से हटकर क्षेत्र विशेष में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है। जी हां, आज हम बात कर रहे हैं देश की उन महिलाओं की जिन्होने पुरूषों के वर्चस्व को तोड़ते हुए महिलाओं के लिए रास्ते बनाए।
देश की पहली महिला प्रधानमंत्री - इंदिरा गांधी
देश की पहली महिला प्रधानमंत्री के रूप में इंदिरा गांधी का भारतीय राजनीति में भमिका अतुलनीय है, राष्ट्र स्तर पर जहां उन्होने तत्संबंधी प्रस्ताव से लेकर बैंकों का राष्ट्रीयकरण करने जैसा साहसिक फैसला लिया, वहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्होने पृथक बांग्लादेश के गठन और उसके साथ मैत्री सहयोग संधि कर अपनी साख मनवाई थी। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इंदिरा गांधी की लोकप्रियता का अंदाजा आप से बात से लगा सकते हैं कि फ्रांस के जनमत सर्वेक्षण के अनुसार वह 1967 और 1968 में फ्रांस में सबसे लोकप्रिय महिला रही थीं। वहीं 1971 में अमेरिका के विशेष गैलप जनमत सर्वेक्षण में भी दुनिया की सबसे लोकप्रिय महिला रही थी।
देश की पहली महिला डॉक्टर- आनंदी गोपाल
भारत में जिस वक्त महिलाओं का शिक्षा हासिल करना भी पाप माना जाता थी, उस वक्त आनन्दी गोपाल ने विदेश जाकर डॉक्‍टर की डिग्री हासिल की थी। आनन्दी बाई ने 1886 में महज 19 साल की उम्र में एमडी की डिग्री के साथ भारत की पहली महिला डॉक्‍टर बन देश-दुनिया के लिए नई मिसाल कायम की थी।
देश की पहली महिला पायलट- सरला ठकराल
हमारे समाज में जहां महिलाओं का घर से निकलना ही मुश्किल होता है, वहीं 1936 में एक लड़की ने आकाश में उड़ने का सपना पूरा किया था। हम बात कर रहे हैं देश की पहली महिला पायलट सरला ठकराल की जिसने 21 साल की उम्र में अपनी साड़ी का पल्लू संभालते हुए जिप्सी मॉथ नामक विमान चलाया।
देश की पहली महिला आई पीएस अधिकारी- किरण बेदी
किरण बेदी ने साल 1972 में भारतीय पुलिस सेवा में देश की पहली महिला आईपीएस अधिकारी होने का गौरव हासिल किया था।
देश की पहली ओलम्पिक पदक जीतने वाली महिला - कर्णम मल्लेश्वरी
जब देश की महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रही थीं, तभी भी एक ऐसा क्षेत्र था, जहां महिलाएं नहीं पहुंच सकी थी, वो ओलम्पिक। पर 21वीं सदी की शुरूआत में साल 2000 में कर्णम मल्लेश्वरी वहां भी भारतीय महिलाओं के नाम का परचम फहराया ।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.