Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
कहते हैं कि एक लड़की की असल जिंदगी शादी के बाद शुरू होती है, जब वो पति के साथ दामपत्य जीवन की जीवन जीती है और मां बनकर खुद को सम्पूर्ण करती है। पर आज हम जिस लड़की के बारे में बताने जा रहे हैं, उसकी कहानी इस दुनियादारी से थोड़ी अलग है। दरअसल, इस लड़की की शादी तो हुई पर उसे दामपत्य जीवन का सुख नहीं मिल पाया, वो शादी के 5 साल बाद भी वर्जिन है, ऐसे में मां बनने के लिए उसे आईवीएफ का सहारा लेना पड़ा। जिसके जरिए वो हाल ही में एक बेटी का मां बनी है।
दरअसल, ये कहानी है अहमदनगर की रहने वाली 30 साल की रेवती की, जो कि महिला वैजिनिज्म्स नाम की मेडिकल कंडीशन से जूझ रही थी। इसके चलते उसके लिए शारीरिक समंब्ध बना पाना मुमकिन नहीं है। ऐसे में 5 साल की शादीशुदा जिंदगी के बावजूद वो महिला वर्जिन है, पर अब उसकी मां बनने की ख्वाहिश पूरी हो गई। इसके लिए उसने आईवीएफ का सहारा लिया और पिछले महीने ही एक बेटी को जन्म दिया। अब रेवती ने अपनी ये कहानी दुनिया से शेयर की है।
रेवती ने अपने बारे जो कुछ बताया है उसके अनुसार, उसे 22 साल की उम्र में ही इस बात का एहसास हो गया था कि उसके साथ सेक्शुअल एक्टिविटीज को लेकर कुछ दिक्कत है। पर उस वक्त उसे इस बारे में बात किसी बात करने की हिम्मत नहीं थी। ऐसे में उसने मेडिकल हेल्प लेने की भी नहीं सोची। सबकुछ उसने आने वाले भविष्य पर छोड़ दिया।
इसके कुछ साल बाद 2013 में अमेरिका में रहने वाले हसबैंड चिन्मय से सोशल मीडिया के जरिए मुलाकात हुई। दोनो में दोस्ती हुई और बात रिलेशन तक पहुंची । यहां तक कि चिन्मय अमेरिका से रेवती के लिए भारत भी आए और उसे ब्याह कर अपने साथ ले गए। वहां शादी की पहली रात को रेवती ने चिन्मय को अपनी स्थिति के बारे में बताया।
इसके बाद शुरू हुआ रेवती की असली संघर्ष, पति के साथ डॉक्टर के पास गई तो डॉक्टर ने उसे जनरल एनस्थीसिया पर रख चेक किया और तब जाकर उसकी वैजिनिज्म्स की कंडीशन का पता चला।दरअसल, वैजिनिज्म्स की कंडीशन में महिलाओं की योनि के पास की मसल्स में सिकुड़न आ जाती है, जिसके चलते शारीरिक सम्बंध बनाने के दौरान योनि में संकुचन हो जाता और फिर सम्बंध बना पाना मुश्किल हो जाता है।
ऐसे में इसकी निजात के लिए आखिर उपाय होती है, सर्जरी। रेवती ने भी सर्जरी का सहारा लिया .. डॉक्टर ने सर्जरी के जरिए वेजाइना के पास कई कट दिए और पर इस सबके बावजबद रेवती उस कंडीशन से बाहर नहीं निकल सकी।
हालांकि कपल के लिए रिलेशन बनाना तो संभव नहीं हो सका पर कपल के पेरेंट्स बनने का सपना पूरा हो गया। रेवती और उसके पति ने डॉक्टर्स के सलाह पर आईवीएफ की तरफ रूख किया और पिछले साल मई में रेवती आईवीएफ जरिए प्रेग्नेंट हुई। वहीं बीते 9 फरवरी को रेवती ने अपनी बेटी को नेचुरल तरीके से जन्म दिया।
ऐसे में मां बनने के बाद रेवती का कहना है कि बच्ची को जन्म देने के बाद अब वो इस बात को लेकर बेहद निश्चिंत हैं कि उनकी ये कंडीशन अब उनके फैमली के लिए किसी तरह से बाधक होगी।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.