Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
Amitabh Bachchan ने अपनी पहली फिल्म 'Saat Hindustani' 15 फरवरी 1969 को साइन की थी। Amitabh को 'Saat Hindustani' कैसे मिली इसकी भी दिलचस्प कहानी है जिसे फिल्म के निर्देशक ख्वाजा अहमद अब्बास की एक किताब में विस्तार से दिया गया है। 'Saat Hindustani' की स्टोरी गोवा मुक्ति आंदोलन से निकली थी, इस फिल्म के लिए अब्बास को साथ एक्टर्स की जरूरत थी।
Amitabh को जब इस फिल्म के बारे में पता चला तो वो कोलकाता में अपनी 1600 रु महीने की नौकरी छोड़कर मुंबई आ गए। अब्बास ने Amitabh को दो किरदारों की विकल्प दी थी- एक पंजाबी और दूसरा मुस्लिम, Amitabh ने मुस्लिम किरदार अनवर अली चुना, क्योंकि इस किरदार में अभिनय की कई परते थी। खास बात यह है कि Amitabh को 'Saat Hindustani' मिली भी नहीं थी लेकिन उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दे दिया था।
जब अब्बास ने उनसे कहा कि यदि उन्हें ये फिल्म न मिलती तो क्या होता, इस पर Amitabh ने कहा था कि कुछ जोखिम तो उठाने पड़ते हैं। यह जवाब अब्बास के दिल को छू गया, इस फिल्म के लिए Amitabh को 5000 रु की पेशकश की गई थी जो उस वक्त उनकी नौकरी से होने वाली कुल आय के मुकाबले काफी कम थी। Amitabh ने निर्देशक अब्बास को अपने पिता Harivansh Rai Bachchan का नाम तब तक नहीं बताया जब तक बहुत जरूरी नहीं हो गया।
अब्बास को ये पता चला कि Amitabh मशहूर साहित्यकार और उनके जानने वालों में शामिल Harivansh Rai Bachchan के बेटे हैं तो उन्होंने तुरंत ही Amitabh के पिता को एक चिट्ठी लिखी, जिसमें उन्होंने उनके बेटे को कास्ट करने की बात कही और उनसे उनकी अनुमति मांगी। इसके बाद जब Harivansh Rai की सहमति आ गई तब ही Amitabh को फिल्म के लिए हरी झंडी दिखा दी गई, Amitabh के बेटे Abhishek Bachchan ने अपने पिता के बारे में एक छोटा-सा नोट लिखकर उनके कैरियर को याद किया है-एक मिसाल है।
मेरे लिए वो इससे अधिक है, मेरे पिता सबसे अच्छे दोस्त गाइड आलोचौक संभल और आदर्श... हीरो, 50 साल पहले उन्होंने फिल्मों में अपना कैरियर शुरू किया था। आज भी अपनी कला के लिए उनका पैशन और प्यार वैसा ही है जैसा पहले दिन रहा होगा, आज जब मैं उन्हें 50 साल पूरे होने की बधाई देने गया तो उन्होंने मुझे एक सबसे अच्छी बात सिखाई... वह काम पर जाने के लिए पहले से तैयार थे...मैंने पूछा कहां जा रहे हैं, तो बोले- काम करने।
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप,वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.