Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
बीते हफ्ते करण जौहर की ड्रीम प्रोजेक्ट के रूप में फिल्म कलंक दर्शको के सामने आई, लेकिन रिलीज से पहले जितने इस फिल्म के चर्चें थें, रिलीज के बाद इस फिल्म से दर्शकों को उतनी ही निराशा हाथ लगी है। आलम ये है कि करण जौहर की अब तक की इस सबसे मंहगी फिल्म के लिए बजट निकालना भी मुश्किल हो रहा है। जी हां, करीब 250 करोड़ रुपए में बनी इस फिल्म ने पहले दिन तो 21 करोड़ से अधिक का शानदार बिजनेस किया पर अगले ही दिन ये बॉक्स ऑफिस पर जिस तरह से धड़ाम हो कर गिरी उसके बाद इसके लिए सम्भलना मुश्किल हो गया है।
ऐसे में आलिया भट्ट और सोनाक्षी सिन्हा जैसे कलाकारों ने इसे फिल्म की नियति बता कर इसकी असफलता को स्वीकार कर लिया है, वहीं फिल्म क्रीटिक्स और फिल्मी पंडित इस असफलता के पीछे अलग-अलग कारण बता रहे हैं। वैसे गौर करें तो ऐसे कई कारण है जिसके चलते करण जौहर की ये ड्रीम प्रोजेक्ट पर्दे पर करिश्मा दिखाने में चूक गई है। जैसे कि...
फिल्म की भव्यता ही भारी पड़ गई ‘कलंक’ पर
बताया जा रहा है कि कंलक फिल्म बनाने का आइडिया करण जौहर का नहीं बल्कि उनके पिता यश जौहर का था और वो भी आज से 15 साल पहले। था। यानी कि पिता के सपने को बेटे ने साकार करने की कोशिश की है और ऐसे में उन्होने इस फिल्म को भव्य बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी। पर उनकी यही कोशिश कहीं ना कहीं फिल्म को रिएलटी और दर्शको से दूर लेकर चली गई।
अगर आप ये फिल्म देखेंगे तो पाएंगे कि इस फिल्म में सेट और कलाकारों को खूबसूरत दिखाने के चक्कर में वास्तिवकता से कोई सरोकार नहीं रखा गया है। फिल्म के कई सीन में ऐसा लगता है कि कलाकार शूटिंग के लिए तैयार होकर बैठें है। कॉस्ट्यूम और गेटअप काफी हद तक फेक लग रहे हैं। शायद यही कारण है कि इस फिल्म से दर्शक जुड़ नहीं पाए।
कॉपी पेस्ट सीन्स ने लगाई वॉट
इस फिल्म में कई ऐसे सीन हैं जो कि पुरानी हिट फिल्मों से चुराए गए लगते हैं जैसे कि फिल्म में पतंग लिए आलिया भट्ट की एंट्री काफी कुछ संजय लीला भंसाली ‘हम दिल दे चुके सनम’ जैसी है, वहीं माधुरी कई सीन में देवदास की चंद्रमुखी जैसी लगती हैं। वहीं फिल्म में आखिर में ट्रेन वाला सिक्वेंस तो काफी कुछ डीडीएलजे के क्लाइमेक्स की कापी लगता है। ऐसे में इन सारे सीन्स को देखने के बाद दर्शकों को इस फिल्म में कुछ भी नए पन का अहसास नहीं रहा।
गानों ने किया तबाह
हिंदी फिल्मों की जान उसके गानों में होती है, माना जाता है कि गाने हिट तो फिल्म हिट। पर कलंक ऐसा करने में नाकाम रही, फिल्म के टाइटल सॉंग के अलावा कोई भी गाना फैंस को नहीं भाया। चाहें वो माधुरी पर फिल्माया गया ‘तबाह हो गए’ हो या फिर कृति सेनन का आइटम सॉंग ‘मेरा सैंया ऐरा गैरा नत्थू खैरा’।
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.