Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
22 जुलाई को मिशन मून की तरफ दूसरा कदम उठाते हुए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान (ISRO) ने चंद्रयान-2 लॉन्च किया था। इसके लॉन्च के कुछ दिन बाद ही सोशल मीडिया कई तस्वीरें सामने आने लगी, हालांकि ये तस्वीरें फेक थी। लेकिन अब तमाम फेक तस्वीरों के बाद अब आखिरकार मिशन चंद्रयान-2 से असल में तस्वीरें सामने आ चुकी हैं। अब आप पूछेंगे कि इस तस्वीरों की प्रमाणिकता क्या है, इन तस्वीरों की प्रमाणिकता खुद ISRO है। जी हां, खुद इसरों ने चंद्रयान-2 से सामने आईं इन तस्वीरों को अपने अधिकारिक ट्वीटर हैंडल पर शेयर किया है।
<blockquote class="twitter-tweet"><p lang="en" dir="ltr"><a href="https://twitter.com/hashtag/ISRO?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#ISRO</a><br>Earth as viewed by <a href="https://twitter.com/hashtag/Chandrayaan2?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#Chandrayaan2</a> LI4 Camera on August 3, 2019 17:34 UT <a href="https://t.co/1XKiFCsOsR">pic.twitter.com/1XKiFCsOsR</a></p>— ISRO (@isro) <a href="https://twitter.com/isro/status/1157903612862844928?ref_src=twsrc%5Etfw">August 4, 2019</a></blockquote> <script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>
आपको बता दें, ये तस्वीरें विक्रम लेंडर के L14 कैमरा से ली गईं है। इसरो ने जानकारी देते हुए बताया कि इन तस्वीरों को चंद्रयान-2 ने 3 अगस्त की शाम को 5 बजकर 28 मिनट पर लिया था।
<blockquote class="twitter-tweet"><p lang="en" dir="ltr"><a href="https://twitter.com/hashtag/ISRO?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#ISRO</a><br>Earth as viewed by <a href="https://twitter.com/hashtag/Chandrayaan2?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#Chandrayaan2</a> LI4 Camera on August 3, 2019 17:29 UT <a href="https://t.co/IsdzQtfMRv">pic.twitter.com/IsdzQtfMRv</a></p>— ISRO (@isro) <a href="https://twitter.com/isro/status/1157902228511870977?ref_src=twsrc%5Etfw">August 4, 2019</a></blockquote> <script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>
गौरतलब है कि चंद्रयान-2 में आर्बिटर, लैंडर और रोवर लगाए गये हैं... जोकि सितंबर के पहले सप्ताह में चांद की सतह पर उतर सकते हैं।
<blockquote class="twitter-tweet"><p lang="en" dir="ltr"><a href="https://twitter.com/hashtag/ISRO?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#ISRO</a><br>First set of beautiful images of the Earth captured by <a href="https://twitter.com/hashtag/Chandrayaan2?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#Chandrayaan2</a> <a href="https://twitter.com/hashtag/VikramLander?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#VikramLander</a><br>Earth as viewed by <a href="https://twitter.com/hashtag/Chandrayaan2?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#Chandrayaan2</a> LI4 Camera on August 3, 2019 17:28 UT <a href="https://t.co/pLIgHHfg8I">pic.twitter.com/pLIgHHfg8I</a></p>— ISRO (@isro) <a href="https://twitter.com/isro/status/1157901184520167424?ref_src=twsrc%5Etfw">August 4, 2019</a></blockquote> <script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>
चंद्रयान-2 का विशेष उद्देश्य चांद के दक्षिण ध्रुव पर उतरना और उस हिस्से की जांच पड़ताल करना है। ये मिशन लगभग 1 साल तक की अवधि का है। आपको बता दें चांद के दक्षिण ध्रुव पर अब-तक कोई यान पहुंच नहीं पाया है।
इन तस्वीरों में पृथ्वी की खूबसूरत सतह और समुंद्र देखने को मिल रही है।
11 साल पहले चंद्रयान-1 मिशन भेजा गया था-
जैसे कि सभी जानते हैं इस मिशन को चंद्रयान-2 नाम दिया गया है। क्योंकि इससे 11 साल पहले ‘चंद्रयान-1’ को भेजा गया था। चंद्रयान-1 चांद के उत्तरी ध्रुव पर उतरा था।
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.