Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
साल 2008 में मुम्बई में हुये आतंकी हमले के बाद उसी साल दिसम्बर से ताज पब्लिक सर्विस वेलफ़ेयर ट्रस्ट की ओर से पीड़ितों के लिए राहत कोष जुटाने के लिए हर साल देश के मशहूर पेण्टरों की बेहतरीन पेण्टिंग्स की नीलामी की जाती है। यह नीलामी इस वर्ष नई दिल्ली के ताज होटल में बीते शुक्रवार को आयोजित की गयी, जिसमें नामचीन चित्रकारों की पेण्टिंग की नीलामी के लिए बोलियाँ लगाई गयीं। जीएजी की ओर से नीलामी के लिए 25 चित्रकारों की पेण्टिंग्स को शामिल किया गया था।
आपको बता दें कि इस नीलामी में सबसे ऊँची और बड़ी बोली 20वीं सदी की पायनियर पेण्टर अमृता शेरगिल की पेण्टिंग की लगी। वह आधुनिक भारत की पहली महिला चित्रकार हैं। वहीं दूसरे नम्बर पर चित्रकार एमएफ़ हुसैन की पेंटिंग की नीलामी रही, जिसकी बोली 22 लाख रुपये में लगी। इसमें कोई दो राय नहीं है कि आपदा पीड़ितों को फिर से नई ज़िन्दगी देने के लिए इन चित्रकारों का हुनर आज भी अपना अहम रोल प्ले कर रहा है। आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि चित्रकारों की इस प्रतिभा के बल पर आपदा पीड़ितों के लिए क़रीब तीन करोड़ रुपये जुटाये गये हैं। ख़ास बात यह है कि इस नीलामी में चित्रकार अमृता शेरगिल की एक पेंटिंग सबसे ज़्यादा 70 लाख रुपये में बिकी।
आपको बता दें कि अमृता शेरगिल 20वीं सदी की जानी-मानी प्रख्यात हंगरी-भारतीय चित्रकार थीं। दिलचस्प है कि अमृता शेरगिल ने आठ साल की उम्र में ही कला में औपचारिक शिक्षा हासिल करना शुरू कर दिया था और साल 1932 में पहली बार 19 साल की उम्र में उन्हें अपनी ‘यंग गर्ल्स’ नाम की ऑइल पेंटिंग के लिए पहचान मिल गयी थी।
ग़ौरतलब है कि अमृता शेरगिल की कला ने सैयद हैदर रज़ा से लेकर अर्पिता सिंह तक की भारतीय कलाकारों की पीढ़ियों को प्रभावित किया है और महिलाओं की दुर्दशा के उनके चित्रण ने उनकी कला को भारत और विदेशों दोनों में महिलाओं के लिए एक प्रकाश स्तम्भ बना दिया है। दिलचस्प है कि भारत सरकार ने अमृता शेरगिल के आर्ट वर्क को राष्ट्रीय कला कोष के रूप में घोषित किया है, और उनमें से अधिकांश को नई दिल्ली में नेशनल गैलरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट में संजोकर रखा गया है।
अमृता शेरगिल की चित्रकारी के इन नायाब नमूनों को भी देखेंः
Bride's Toilet, 1937
Self-portrait, 1930
Klára Szepessy, 1932
Group of Three Girls, 1935
Hungarian Gypsy Girl, 1932
Village Scene, 1938
Brahmacharis, 1937
Two Women
Author: Amit Rajpoot
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop App, वो भी फ़्री में और कमाएँ ढेरों कैश आसानी से!
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.