Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
सबसे पहले आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएं, हमारे साथ-साथ आज बॉलीवुड भी आपको अपने स्टाइल में स्वतंत्रता दिवस की बधाईयां दे रहा है...कैसे? अरे 2 बड़ी फिल्में जो आज रिलीज हो रही हैं। जी हां, पिछले साल की तरह इस साल भी जॉन और अकी की भिड़ंत बॉक्स ऑफिस पर होने वाली है। पिछले साल जॉन की सत्यमेव जयते और अक्षयी की गोल्ड 15 अगस्त के दिन पर्दे पर रिलीज हुई थी। आज एक बार फिर बॉक्स ऑफिस पर दोनों आमने-सामने हैं। एक तरफ है जॉन की बाटला हाउस तो दूसरी तरफ है अकी की ‘मंगल मिशन’। दोनों ही फिल्मों के टॉपिक्स ‘असल जिंदगी’ पर आधारित है। बाटला हाउस का रिव्यू आप हमारी दूसरी वीडियो में देख सकता है, मैं आपके लिए लेकर आई हूं अक्षय कुमार की मल्टी स्टारर फिल्म ‘मंगल मिशन’ का मूवी रिव्यू। आइए जानते हैं क्या है फिल्म में खास-
कहानी-
फिल्म की कहानी क्या है ये हर कोई जानता है... फिल्म में ISRO के वैज्ञानिकों द्वारा भारत के पहले मार्स ऑर्बिटरी मिशन यानी कि मंगलयान के पहले ही प्रयास के सफल परिक्षण की कहानी आपके सामने प्रस्तुत करती है। आपको बता दें, मंगलयान को 5 नवंबर 2013 को 2 बजकर 38 मिनट पर मंगल ग्रह की परिक्रमा के लिए आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च किया गया था। भारत पहला ऐसा देश है, जिसने पहले ही प्रयास अभियान सफल रहा था। भारत से पहले कोई भी देश पहली ही कोशिश में मंगल तक नहीं पहुंच पाया। हालांकि, फिल्म की कहानी में आपको भारतीय वैज्ञानिकों की मेहनत दिखाई जाएगी। कैसे कम संसाधनों के बलबूते भारतीय वैज्ञानिकों ने इतिहास रचा। फिल्म में अक्षय कुमार हेड साइंटिस्ट राकेश धवन का किरदार निभा रहे हैं। विद्या बालन के किरदार का नाम है तारा शिंदे, तापसी पन्नू बनीं है कृतिका अग्रवाल, सोनाक्षी सिन्हा एका गांधी, कृति कुल्हारी का नाम है नेहा सिद्दीकी। वहीं, शरमन जोशी के किरदार का नाम है परमेश्वर नायडू।
फिल्म में क्या है खास-
फिल्म बेसिकली तारा शिंदे, कृतिका अग्रवाल, एका गांधी, वर्षा गौड़ा और नेहा सिद्दीकी की कहानी है। ये वो महिलाएं है, जिन्होंने असल में ‘मंगल मिशन’ के उस सपने को सच करके दिखाया है जो कल तक राकेश धवन की सोच तक ही सीमित था। फिल्म में आपको साइंटिस्ट का जोश और जुनून के अलावा इमोशन्स भी भर-भर कर देखने को मिलेगा।
देखे या नहीं- 15 अगस्त का मौका है, देशभक्ति वाली फिलिंग दिल में जगानी है तो ये फिल्म देखने आपको थिएटर्स तक जरूर जाना चाहिए।
हम इस फिल्म को देते हैं 5 में से साढ़े 3 स्टार्स
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.