Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
दोस्ती हमारी जिंदगी का सबसे सच्चा रिश्ता होती है, जिसे हम बिना किसी शर्त के बखूबी निभाते हैं। हंसी-खुशी हो या फिर दुख-दर्द दोस्तों के साथ बिताये हर पल जिंदगी भर याद रहते हैं। स्कूल लाइफ से लेकर कॉलेज लाइफ तक हमारी दोस्ती की लिस्ट काफी लम्बी होती है, जिसमें कई प्रकार के दोस्त शामिल होते हैं। इस लिस्ट में कुछ आम होते हैं तो कुछ बेहद ही खास... लेकिन कुछ ही ऐसे दोस्त होते हैं जो आपके सच्चे मित्र कहलाते हैं... वो दोस्त जो आपकी खुशी में भले ही शामिल हो पाये या नहीं... लेकिन दुख में वह हमेशा आपके साथ खड़े रहते हैं। हमारी सफल जिंदगी के पीछे इन सच्चे दोस्तों का हाथ बहुत ही अहम होता है।
अब, सवाल ये उठता है कि इतने दोस्तों में कैसे पता लगायें कि कौन आपका सच्चा दोस्त है और कौन केवल काम चलाऊ। सच्चा मित्र मिल जाना अपने आप में ही सबसे भाग्यशाली काम होता है। अगर आप अपने दोस्तों की लिस्ट में उस सच्चे मित्र को पहचान नहीं पा रहे हैं... तो आज हम आपकी मदद करेंगे।
आज हम आपको सच्चे मित्र के वो गुण बताने जा रहे हैं, जिन्हे पहचानकर आप अपने उनकी तलाश पूरी कर सकते हैं-
आपके अतित को नहीं कुरेदते
कुछ दोस्तों की आदत होती है कि वह आपसे जान-बुझकर आपके अतित के बारे में जानने की कोशिश करते हैं। भले ही आप वो बताने में सहज महसूस कर पा रहे हो या नहीं... लेकिन आपको जो सच्चा दोस्त होगा उसे आपकी खुशी में ही अपनी खुशी नजर आएगी। अगर आप अपने अतित को डिस्कस नहीं करना चाहते, तो वह कभी उस बारे में आपसे बात नहीं करेंगे और आपको भी उस अतित को भूलकर आगे बढ़ने की सलाह देंगे।
आपको नीचा दिखाने का काम नहीं करते
कुछ दोस्त मस्ती-मजाक में आपको अक्सर नीचा दिखाने की कोशिश करते हैं, लेकिन सच्चा मित्र कभी इस तरह की हरकते नहीं करता। वह आपकी कमियों से ज्यादा आपके गुणों की बात दूसरों से करते हैं। हालांकि, सच्चे मित्र भी कई बार मस्ती-मजाक में आपकी कमियों को उजागर कर देते हैं, लेकिन वो केवल आपको प्रोत्साहित करने के लिए ताकि आप उससे बाहर निकले और आगे बढ़ें।
आपको सुनते हैं
अच्छे और सच्चे मित्र खुद की बोलने से पहले आपकी सुनना पसंद करते हैं।
आप अच्छाई ही नहीं आपकी बुराई से आपको अवगत कराते हैं
कुछ दोस्त होते हैं आपके सामने अच्छा बनने के लिए बुरे को भी अच्छा बता देते हैं ताकि आपको बुरा न लगें... लेकिन ध्यान रखिये ये लोग आपके सच्चे मित्र नहीं होते... जो दोस्त बुरे को बुरा और अच्छे को अच्छा बताने का सहास रखे वही आपकी प्रगति चाहने की चेष्टा रखता है।
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से...
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.