Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
2 अक्टूबर से भारत में ‘सिंगल यूज प्लास्टिक’ को बैन कर दिया गया है, इसका मतलब है कि अब भारत में वो सभी प्लास्टिक बैन है जिसका इस्तेमाल करके एक बार करके फेंक दिया जाता है। जैसे सामान देने वाली पन्नियां, प्लास्टिक की बोतलें, फूड रैपर, प्लास्टिक के गिलास, चम्मच, प्लेट्स, स्ट्रा आदि। लेकिन प्लास्टिक के दुष्प्रभावों से बचने के लिए क्या इतना प्लास्टिक बैन काफी है? इसका जवाब है शायद नहीं... हालांकि, भारत ने फिर भी ये कदम उठाकर जागरूकता फैलाने की कोशिश की है। लेकिन इस तरह के कदम केवल एक देश में उठाना काफी नहीं है, पूरी दुनिया में प्लास्टिक के इस्तेमाल को खत्म करना चाहिए, जिसके बाद ही हम प्रकृति और प्रकृति से जुड़े अन्य जीव-जंतुओं को बचा सकते हैं।
हाल ही में एक दिल दहला देने वाली तस्वीर हमारे सामने आई थी, जिसको देखने के बाद समझ आया कि अगर तुरंत प्लास्टिक का इस्तेमाल नहीं रूका तो इसके आने वाले परिणाम कितने भयानक हो सकते हैं।
गुम्बो लिम्बो नेचर सेंटर नामक एक ट्वीटर हैंडल पर एक तस्वीर शेयर की गई थी। इस तस्वीर में एक नन्हा कछुआ दिखाई दे रहा है, जो अब जिंदा नहीं है।
<blockquote class="twitter-tweet"><p lang="en" dir="ltr">Tiny turtles washing up on beaches need our help. 100% of ours that didn't survive had plastic in their GI tracts. This tiny loggerhead had eaten 104 pieces of plastic. We all need to do our part to keep our oceans <a href="https://twitter.com/hashtag/plasticfree?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#plasticfree</a>. <a href="https://twitter.com/hashtag/reducereuserecycle?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#reducereuserecycle</a> <a href="https://twitter.com/hashtag/trashfreeseas?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#trashfreeseas</a> <a href="https://twitter.com/hashtag/lovegumbolimbo?src=hash&ref_src=twsrc%5Etfw">#lovegumbolimbo</a> <a href="https://t.co/CIQdY1MMeY">pic.twitter.com/CIQdY1MMeY</a></p>— Gumbo Limbo Nature Center (@GumboLimboNC) <a href="https://twitter.com/GumboLimboNC/status/1179386052143931392?ref_src=twsrc%5Etfw">October 2, 2019</a></blockquote> <script async src="https://platform.twitter.com/widgets.js" charset="utf-8"></script>
ये कछुआ अमेरिका के फ्लोरिडा के बोका रैटन समुद्र तट पर बहकर आ गया था। गुम्बो लिम्बो नेचर सेंटर के लोगों को ये कछुआ मिला, तब-तक इस नन्हे कछुए की मौत हो चुकी थी।
जब इस कछुए का मेडिकल किया गया, तो जो सच्चाई सामने आई उसपर हम इंसानों को शर्म आनी चाहिए। इसके पेट से 104 प्लास्टिक के टुकड़े निकले। ये नन्हा कछुआ इन प्लास्टिक को अपना खाना समझकर निगल रहा था, इसे क्या पता था ये तो हम इंसानों की तरफ से भेजा गया उसकी मौत का सामान है।
इसके पेट से निकलने वाले प्लास्टिक में बोतल के ढक्कन, गुब्बारे और अन्य प्लास्टिक का सामान था। इसे खाने के बाद उसे लगा उसका पेट भर गया, लेकिन वह अंदर से कमजोर होता चला गया। पोषण न मिल पाने की वजह से उसकी मौत हो गई।
सेंटर के ट्वीटर हैंडल पर ये तस्वीर शेयर की और लोगों से अपील की कि वह कम से कम समुद्र को प्लास्टिक फ्री बनाने में मदद करें, ताकि कल इस तरह की कोई अन्य विकराल तस्वीर देखने को न मिले।
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से...
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.