Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
आज भारत अपना 71वाँ स्वतंत्रता दिवस मना रहा है। इस ख़ास मौक़े पर आपका मन देशभक्ति से भर जाता है। ये तब और भी जोशीला और रौबदार होने को होता है जब आप देशभक्ति से लबरेज़ बेहतरीन शेर-ओ-शायरियाँ सुनते हैं। वास्तव में आज़ादी के इस ख़ास मौके पर हम अपने आसपास के दोस्त यारों को शेर, नज़्म और शायरियाँ भेजते हैं। तो आइए हम आपके लिए पेश करते हैं आज़ादी के मौक़े पर 10 शानदार शायरी...
1
है नमन उनको
कि जो इस देह को अमरत्व देकर
इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये।
है नमन उनकोकि जिनके सामने बौना हिमालय
जो धरा पर गिर पड़ेवो आसमानी हो गये हैं।
2
मैं भारत वर्ष का हरदम अमित सम्मान करता हूँ
यहाँ कि सोंधी मिट्टी का मैं गुनगान करता हूँ
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा बस यही अरमान रखता हूँ।
3
ये बात हवाओं को बताए रखना
रोशनी होगी बस चिरागों को जलाए रखना।
लहू देकर जिसकी हिफाज़त हमने की,
ऐसे तिरंगे को सदा दिल में बसाए रखना।
4
आज़ादी की कभी शाम नहीं होने देंगे,
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे।
बची हो जो एक बूँद भी लहू की
तब तक भारत माँ का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे।
5
ज़माने में मिलते हैं आशिक कई
मगर वतन से ख़ूबसूरत कोई सनम नहीं होता।
नोटों में लिपटकर, सोने में सिमटकर मरते हैं कई
मगर तिरंगे से ख़ूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता।
6
जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो,
जब आँख बंद हो तो यादें हिन्दुस्तान की हो।
हम मर भी जायें तो कोई ग़म नहीं,
मरते वक़्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।
7
करता हूँ भारत माता से गुजारिश
कि तेरी भक्ति के सिवा कोई बंदगी न मिले।
हर जनम मिले इसी पावन धरा पर
या फिर कभी ज़िन्दगी न मिले।
8
यहाँ आरती है, अजान है
हिन्दू है मुसलमान है।
है गर्व मुझे इस देश पर
क्योंकि ये मेरा हिन्दुस्तान है।
9
अब तक जिसका ख़ून न खौला
ख़ून नहीं वो पानी है।
जो देश के काम न आये
वो बेकार जवानी है।
10
फ़ना होने की इजाज़त ली नहीं जाती
ये वतन की मोहब्बत है जनाब, पूछकर की नहीं जाती।
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें Lop Scoop App, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश आसानी से
YOUR REACTION
  • 1
  • 1
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.