Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
70, 80 के दशक का वो रोमंटिक हीरो, जो ना सिर्फ आज भी सिनेमा में सक्रीय है बल्कि अपनी दमदार मौजदूगी से दर्शको के बीच नई पहचान बना चुका है। जी हां, हम बात कर रहे हैं अभिनेता ऋषि कपूर, जो आज के समय में फिल्मों के साथ सामाजिक सरोकारों से भी जुड़े रहते हैं और हर मुद्दे पर खुलकर अपनी बात रखते हैं। पुरानी फिल्मों में अपनी रोमांटिक छवि से इतर आज ऋषि कपूर अपनी बेबाकी के लिए जाने जाते हैं और अक्सर बयानबाजी को लेकर सुर्खियों मे रहते हैं। आज यानी 4 सितंबर को वेटरन अभिनेता ऋषि कपूर का जन्मदिन होता है और इस खास मौके पर हम उनके जीवन के अनकहे किस्से आपके सामने ला रहे हैं।
दरअसल 66वां जन्मदिन मना रहे ऋषि कपूर ने पिछले साल प्रकाशित अपनी आत्मकथा 'खुल्लम खुल्ला ऋषि कपूर अन्सेन्सर्ड' में खुद अपने जीवन के हैरान करने वाले किस्सों का खुलासा किया था, जिसमें उन्होने डॉन दाऊद इब्राहिम के साथ हुई अपनी मुलाकात के साथ अवार्द खरीदने का खुलासा किया था।
बेस्ट एक्टर का अवार्ड खरीदा
वैसे ऋषि कपूर ने 'मेरा नाम जोकर' से बाल कलाकार के तौर पर अपनी फ़िल्मी पारी शुरूआत की थी, जिसके उन्हें डेब्यू चाइल्ड अभिनेता का नेशनल अवार्ड जीता था। पर बतौर हीरो के रूप में उनकी पहली फ़िल्म थी 'बॉबी' और इसके लिए भी उन्हें फ़िल्मफेयर से बेस्ट एक्टर अवार्ड मिला था। लेकिन इस अवार्ड को लेकर काफी कुछ कहा गया यहां तक कि इसे ऋषि कपूर द्वार खरीदा हुआ बताया गया, जिसकी काफी कुछ पुष्टि बाद में ऋषि कपूर के जरिए ही हो गई । दरअसल अपनी किताब में उन्होंने खुलासा किया है- ''हां, मैंने बेस्ट एक्टर का अवार्ड खरीदा है और इसीलिए अमिताभ बच्चन नाराज़ हैं।"
ऋषि कपूर ने बताया कि उन्होंने 'बॉबी' फ़िल्म के लिए बेस्ट एक्टर का अवार्ड 30 हज़ार रूपये में खरीदा था, इसके साथ ही ऋषि कपूर ने लिखा हैं कि अमिताभ बच्चन इसीलिए उनसे काफी समय से नाराज़ थे क्योंकि उन्हें लगा था कि वो 'ज़ंजीर' के लिए ये अवार्ड जीतेंगे... बहरहाल हाल ही में '102 नॉट आउट' में हम बिग बी और ऋषि कपूर की जोड़ी को एक साथ देख चुके हैं!
डॉन के साथ पी है चाय
वहीं ऋषि कपूर ने इसी किताब में दाऊद इब्राहिम से अपनी मुलाकात का भी खुलासा किया है, ऋषि कपूर लिखते हैं... "शोहरत ने मुझे अच्छे लोगों के साथ ही संदिग्ध लोगों से भी मिलवाया, इनमें से ही एक था दाऊद इब्राहिम।दरअसल ये 1988 की बात है। साथ ही ऋषि कपूर साफ करते हैं... जाहिर है, ये 1993 के मुंबई ब्लास्ट से पहले की घटना थी और उस वक्त तक मैं दाऊद को भगोड़ा नहीं समझता था और तब तक वो महाराष्ट्र के लोगों का दुश्मन भी नहीं था। तभी दाऊद ने मेरा स्वागत किया और कहा कि किसी भी चीज की जरूरत हो तो बस मुझे बता दें।
पिता राजकपूर के अफेयर पर भी बोले ऋषि
इस किताब में अपनी जिंदगी के साथ ही ऋषि कपूर ने अपने पिता राजकपूर के बारे में भी खुलकर लिखा है, ऋषि लिखते हैं... ''मेरे पिता राज कपूर 28 साल से पहले ही भारतीय सिनेमा के शो-मैन का ख़िताब पा चुके थे, उस वक़्त वे प्यार में भी थे, पर दुर्भाग्य से मेरी मां के अलावा किसी और से। उनकी वो गर्लफ्रेंड कुछ हिट्स 'आग', 'बरसात' और 'आवारा' में उनकी हीरोइन भी थीं।" वहीं इस किताब में ऋषि ने साफ-साफ लिखा है कि उनके पिता को शराब, सिनेमा और लीडिंग लेडीज़ से प्यार था।
अमिताभ की कामयाबी में हम जैसो का हाथ
जी हां, अपनी किताब में ऋषि कपूर ने सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के बारे में भी काफी कुछ कहा है, यहां तक की ऋषि लिखते हैं कि नि:संदेह अमिताभ बच्चन बहुत बड़े सुपरस्टार हैं और उन्होंने एक मिसाल कायम की है, पर उनकी सफलता में उन जैसे तमाम छोटे-छोटे कलाकारों का भी योगदान हैं, जिनके साथ उन्होंने काम किया है।
पत्नी को नहीं दिया धोखा
इस किताब में ऋषि कपूर ने ये स्वीकार किया है कि भले ही शादी से पहले उनकी कई गर्लफ्रेंड थी पर शादी के बाद उन्होंने कभी अपनी पत्नी नीतू सिंह को कभी भी धोखा नहीं दिया है।
ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से
Author: Yashodhara Virodai
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.